अच्छा हे की रिश्तो का कब्रिस्तान नहीं होता

अच्छा हे की रिश्तो का कब्रिस्तान नहीं होता
वरना जमीन कम पड़ जाती|
Accha hai ki rishton ka kabristan nahin hota,
warna zameen kum padh jaati.

जिसको आज मुझमे हजारो गलतिया नजर आती हैं कभी उसी ने कहा था तुम जैसे भी हो मेरे हो
Jisko aaj mujme hjaro galtiya najar aati hain kbhi usi ne kaha tha tum jaise bhi ho mere ho.

कमाल की मोहब्बत थी मुझसे उसको अचानक ही शुरू हुई और बिना बताये ही ख़त्म हो गई
Kamaal ki mohabbat thi mujhse usko, achanak hi shuru hui aur bina bataye hi khatm ho gayi.

You might like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *