Jo Kisi Beparvah Se Bepanah Ishq Karte Hain

Bekhabar, Bevajah Berukhi Na Kiya Kar,
Koi Toot Jaata Hai Tera Lahaja Badalne Se.

बेखबर, बेवजह बेरुखी ना किया कर,
कोई टूट जाता है तेरा लहजा बदलने से।

Bikhar Jate Hain….. Sar Se Paanv Tak, Woh Log…
Jo Kisi Beparvah Se Bepanah Ishq Karte Hain.

बिखर जाते हैं….. सर से पाँव तक, वो लोग…
जो किसी बेपरवाह से बे-पनाह इश्क करते है।

Ye Jo Tum Lafhazon Se Baar Baar Chot Dete Ho Na
Dard Vaheen Hota Hai… Jahaan Tum Rahate Ho.

ये जो तुम लफ़्हज़ों से बार बार चोट देते हो ना
दर्द वहीं होता है… जहाँ तुम रहते हो।

Shero-Shayari To Dil Bahlane Ka Zariya Hai Janaab,
Lafz Kagaj Par Utarne Se Mahaboob Nahin Lauta Karte.

शेरो-शायरी तो दिल बहलाने का ज़रिया है जनाब,
लफ़्ज़ कागज पर उतारने से महबूब नहीं लौटा करते।

Bahut Mashroof Ho Shayad, Jo Hamko Bhool Baithe Ho,
Na Ye Poocha Kahan Pe Ho, Na Yeh Jana Ki Kaise Ho.

बहुत मशरूफ हो शायद, जो हम को भूल बैठे हो,
न ये पूछा कहाँ पे हो, न यह जाना कि कैसे हो।

Toda Kuch Is Ada Se Talluk Usne Ghalib,
Ke Sari Umr Apna Kasoor Dhudhte Rah Gaye.

तोड़ा कुछ इस अदा से ताल्लुक उसने ग़ालिब,
के सारी उम्र अपना क़सूर ढूँढ़ते रह गए।

Aapke Bin Tootkar Bikhar Jayenge,
Mil Jayenge Aap To Gulashan Ki Tarah Khil Jaayenge,
Agar Na Mile Aap To Jeete Ji Mar Jaayenge,
Pa Liya Jo Aapko To Mar Kar Bhi Jee Jaayenge.

आपके बिन टूटकर बिखर जायेंगे,
मिल जायेंगे आप तो गुलशन की तरह खिल जायेंगे,
अगर न मिले आप तो जीते जी मर जायेंगे,
पा लिया जो आपको तो मर कर भी जी जायेंगे।

Mohabbat Ke Bhi Kuchh Andaz Hote Hain,
Jagti Aankhon Ke Bhi Kuchh Khwab Hote Hain,
Jaruri Nahi Ke Gham Mein Aansoo Hi Niklein,
Muskurati Aankhon Mein Bhi Sailab Hote Hain.

मोहब्बत के भी कुछ अंदाज़ होते हैं,
जगती आँखों के भी कुछ ख्वाब होते हैं,
जरुरी नहीं के ग़म में आँसू ही निकले,
मुस्कुराती आँखों में भी शैलाब होते हैं।

Meri Chahat Ne Use Khushi De Di,
Badle Mein Usne Mujhe Khamoshi De Di,
Khuda Se Dua Maangi Marne Ki To,
Usne Bhi Tadapne Ke Liye Zindagi De Di.

मेरी चाहत ने उसे खुशी दे दी,
बदले में उसने मुझे सिर्फ खामोशी दे दी,
खुदा से दुआ मांगी मरने की लेकिन,
उसने भी तड़पने के लिए जिन्दगी दे दी।

Wo To Shayaron Ne Mohabbat Se Saza Rakha Hai,
Varna Mohabbat Itni Bhi Hasin Nahin Hoti.

वो तो शायरों ने लफ्जो से सजा रखा है,
वरना मोहब्बत इतनी भी हसीँ नही होती।

You might like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *